बतकुच्चन – ४२


बतकुच्चन करत हमेशा याद रहेला कि बाते से आदमी पान खाला आ बाते से लात. अब बाति आ लात के अतना घन संबंध देखला का बावजूद बतकुच्चन के लति धरा गइल बा आ लति धरा जाव त फेर आदमी परिणाम के फिकिर छोड़ देला. हालांकि जरूरी नइखे कि लति हमेशा खराबे होला. बढ़ियो काम के लति धरा सकेला आ धराये के चाहीं. बाकिर खराब काम के ना. आ एहि से आजु लति से मिलत जुल शब्दन पर आजु के बतकुच्चन करे जात बानी. लति त जानते बानी कि आदत के कहल जाला, जवन काम बार बार कइल जाव उहे लति कहाला. खास करि के खराब आदत के लति कहल जाला. ई लति लतरि लेखा पसरत जाला. लतरि माने कवनो बिरवा के डाढ़ पात आ लतरल माने लतरि बढ़ल. एह लतरि आ लतरी में बड़हन फरक हो जाई काहे कि लतरी बांया के कहल जाला. आ बाँया हाथ से काम करे वाला के लतरीहत्था. लतरि आ लतरी से कम घुमावदार ना होखे लतखोर आ लतखोरा के फरक. लतखोर ऊ जेकरा लात खाये के आदत पड़ गइल होखे, आ लतखोरा ऊ जेकरा पर लोग आपन गोड़ पोंछत जाव. माने कि डोरमैट भा पाँव पोछना. लतखोर खातिर दोसर शब्द होला लतियल. घोड़ा आ गदहा के लतार मारे के आदत होला, माने कि गोड़ उठा के मारल आ कुछ आदमीओ लताह हो जाले जब उनुका लात मारे के, लतार चलावे के लति लाग जाव. रउरा सोचत होखब कि आजु अचके हम अतना लाते लतियाँव पर काहे उतर गइनी. कारण त बा बाकिर बोलब ना. काहे कि नेतवन में से बहुते लतखोरो होले आ लताहो. खाइबो करेले आ मारबो करेले. दू दिन पहिले जे भठियरपन के अथाह सागर रहुवे अचके में ऊ मात्र पियादा रहि गइल आ ओकरा के विभीषण बना के एगो पार्टी अपना घर में घुसा लिहलसि. चाल चरित्तर आ चेहरा अतना कमाल के कि ना कहल बनत बा ना सुनत. जे सत्ताधारी पार्टी के रहरी रहरी चहेटत रहल ऊ भुला गइल कि रहरी रहरी चहेटावाला के अपनहु रहरी रहरी दउड़े के पड़ेला. लोग रउरे तरजुई पर रउरे के तउल दी त राउर वजन का निकली ? एही से कहल गइल बा कि नेता तीन तरह के होले. पहिलका ऊ जेकरा पाछा जनता के भीड़ चले. दुसरका ऊ जे भीड़ देखि के आगा आगा चले लागे आ तिसरका ऊ जेकरा के देख के पता ना चल पावे कि भीड़ ओकरा पाछा चलत बिया कि ओकर पीछा करत बिया ! हमरा जइसन बतबनवो एह बाति के मानत बा कि आजु हम बहक गइल बानी. भाषा से उतरि के समाज पर आ गइल बानी. बाकिर इहो बाति ओतने साँच ह कि समाज से भाषा बनेला भाषा से समाज ना. अलग बाति बा कि भाषा से समाज चिन्हाला. समाज में जवन चलत होखी उहे भाषा में लउकी. एह कहाउत का बावजूद कि भईंस का आगा बीन बजावे भईंस खड़ी पगुराय !

About these ads

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s